छोटी उम्र में पढ़ने वाले बच्चे के दिमाग होते तेज़ CHOTI UMRA ME PADHNE WALE BACCHE HOTE HAI TEZ

छोटी उम्र में पढ़ने वाले बच्चे के दिमाग होते  तेज़  

अगर आप भी किसी बच्चे के माता पिता  या अभिवावक है, तो आप इस पोस्ट को ध्यान से पढ़े।क्योकि यह जानना आपके लिए बेहद जरुरी है,अगर आप भी चाहते है, कि आपका भी बच्चा पढ़ने में तेज़ हो ,दिमाग तेज़ हो  व मेधावी हो , तो आप उसकी पढ़ाई छोटी  उम्र में ही शुरुआत करा दे।

यूनिवर्सिटी ऑफ़ एडिनबर्ग के हालिया शोध  बात सामने आयी है कम  उम्र से पढ़ाई पर मेहनत करने   वाले बच्चे  दिमाग में ज्यादा तेज होते है।

ऐसे बच्चे जब वयस्क होते है तो उनकी बौद्धिक क्षमता अन्य बच्चो की तुलना ज्यादा  होता है।
 जबकि जिनोहोने बचपन में देर से पढाई शुरू की उनकी बौद्धिक क्षमता इन बच्चो की तुलना में कम होता है।

यूनिवर्सिटी के मनो वैज्ञनिक स्टुअर्ट रिची ने बताया की अगर शुरूआती दौर में हो बच्चो की पढाई से रिलेटेड PROBLEMS दूर कर दी जाये  ,तो न केवल वे पढ़ने में लिखने में बल्कि तार्किक क्षमता में भी सुधार  आता है

और ऐसे  ही बच्चे कुशाग्र और मेधावी  होते है।जिस प्रकार कुम्हार कच्ची मिटटी को आकार देता है ,उसी प्रकार बच्चो  कम उम्र में दी  शिक्षा उन्हें मेधावी बनाती है।ऐसे बच्चे त्वरित फैसले लेने में सक्षम होते है।

और अंत में यही कहना चाहूंगा शिक्षा एक अनमोल खजाना है अतः आप अपने बच्चो को कम उम्र में ही शिक्षा प्रदान करने की कोशिश करे इससे बच्चो की सीखने की क्षमता बढ़ेगी।

आप को ये पोस्ट कैसा लगा अपने सुझाव अवश्य दे  अगर हो सके तो प्लीज् इस पोस्ट को FACEBOOK ,TWITTER,GOOGLE PLUS  इत्यादि पर शेयर करे।


Related Posts

One thought on “छोटी उम्र में पढ़ने वाले बच्चे के दिमाग होते तेज़ CHOTI UMRA ME PADHNE WALE BACCHE HOTE HAI TEZ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *